Breaking News
Home / NEWS / वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे निकलेगा इन जिलों से होकर, जानें क्या आपका जिला भी है शामिल

वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे निकलेगा इन जिलों से होकर, जानें क्या आपका जिला भी है शामिल

वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे इन दिनों मोदी सरकार के कई चर्चित प्रोजेक्ट्स में से एक है. मोदी सरकार आये दिन देश के निर्माण कार्य में लगी है और वे एक शहर से दूसरे शहर के बीच लगने वाला समय को कम करते जा रहे हैं. जगह जगह पर फ्लाईओवर, हाईवे का निर्माण किया जा रहा है, ताकि जनता को जाम से बचाया जा सके, और ताकि वे समय पर अपना फासला तय कर सकें. जनता भी इनके काम से बहुत ही ज़्यादा खुश है. भारतमाला परियोजना के तहत कई प्रोजेक्ट्स पर काम चल रहा है. ऐसा ही एक प्रोजेक्ट है वाराणसी-कोलकाता एक्सप्रेसवे प्रोजेक्ट. यह प्रोजेक्ट वाराणसी से कोलकाता के बीच का अंतर कम कर देगा. आइये आपको प्रोजेक्ट के बारे में और बताते हैं.

वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे

इन जिलों से होकर निकल रहा है वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे

निर्माण कार्यों ने तेज़ी पकड़ ली है, और बहुत जल्द आपको एक शहर से दूसरे शहर में सफर करने में ज़्यादा समय नहीं लगेगा, और बिना किसी जाम के, या ज़्यादा समय लगने के आसानी से यह दूरी नाप पाएंगे. मिली हुई जानकारी के मुताबिक़ इस प्रोजेक्ट पर काम शुरू हो गया है, उत्तर प्रदेश के चंदौली जिले में यह एक्सप्रेस वे लगभग 22 किमी लंबा होगा. जबकि बिहार में यह 159 किमी लम्बा होगा. चंदौली के पीडीडीयू नगर तहसील के रेवसां से होकर यह धरौली बिहार बार्डर के बीच से गुजरेगा. यह जिले के 31 गांव से होकर गुजरने वाला है. इस एक्सप्रेसवे के लिए जमीन चिह्नित करके डीपीआर तैयार करने की प्रक्रिया तेज हो गई है.

वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे

बनने वाला है यह एक्सप्रेसवे, राज्यों के बीच की दूरी होगी कम

इस प्रोजेक्ट की लम्बाई करीब 610.417 किमी है. और इसकी लागत करीब 25000 करोड़ रूपये आने वाली है. भारतमाला परियोजना (बीएमपी) चरण 2 के तहत यह ग्रीनफील्ड एक्सप्रेसवे राष्ट्रीय राजमार्ग एनएच -2 (पुराना) के समानांतर चलेगा और वाराणसी रिंग रोड किमी 00.000 (बरहुली गांव के पास) से 610.417 एनएच -16 किमी, उलुबेरिया, हावड़ा जिला, पश्चिम बंगाल के पास लिंक करेगा.

वाराणसी-कोलकत्ता एक्सप्रेसवे

यह एक्सप्रेसवे कैमूर, रोहतास, औरंगाबाद और गया से होकर बंगाल में प्रवेश करेगा. इसके निर्माण से चंदौली, भभुआ, सासाराम, औरंगाबाद, बोकारो, रांची, पुरुलिया एक दूसरे से बहुत ही अच्छी तरह से जुड़ जाएंगे और उन्हें बहुत अच्छी कनेक्टिविटी मिलेगी. यहां यह भी बता दें कि इस 8 लेन प्रोजेक्ट में बिहार से होकर पटना कोलकाता और गोरखपुर सिलीगुड़ी एक्सप्रेसवे भी प्रस्तावित है.

आर्टिकल पढ़ने के लिए धन्यवाद और भी लेटेस्ट न्यूज़ के लिए देखे हमारी वेबसाइट संचार डेली.

About apporva

Leave a Reply

Your email address will not be published.