Home / Motivational / दक्षिण भारत के सबसे बड़े सुपरस्टार ही नही प्रेरणा की मूर्ती भी है रजनीकांत!

दक्षिण भारत के सबसे बड़े सुपरस्टार ही नही प्रेरणा की मूर्ती भी है रजनीकांत!

  1. थलाईवा रजनीकांत को तो आप सभी जानते ही होंगे पर उनके एक मामूली इंसान से लेकर थलाईवा बन्ने का सफ़र बहुत कम लोगों को मालूम होगा। रजनीकांत दक्षिण भारत के सुपरस्टार है और फिल्म जगत के सबसे हाई फीस चार्ज करने वाले एक्टर्स की लिस्ट में शामिल भी होते है। यह सिर्फ अभिनेत्र की मेहनत और लगन का ही नतीज़ा है जिसका फल उन्हे मिल पाया।

घर में थी पैसों की तंगी!

हर कोई रजनीकांत द ऐक्टर को तो जानता है पर कोई यह नहीं जानता की उनका जीवन किन कठिनाइयों की गलियों से बीत चुका है। रजनीकांत के घर की हालत ठीक नही थी जिसके चलते अभिनेत्र को कम उम्र में ही कूली, कारपेंटर और मशीनों वाली फैक्ट्री में मददकार की तरह काम करना पड़ा। एक बार तो उन्होंने चावल की बोरियां भरने का काम करके भी पैसे कमाए थे।

बस कंडक्टर से सुपरस्टार तक का सफर तय किया!

एक समय पर तो रजनीकांत ने बस कंडक्टर का भी काम किया था , हालाकि वह बस कंडक्टर होने के टाइम पर भी लोगो में काफी मशहूर थे अपने टिकट बेचने के अंदाज की वजह से । वह उस बस कंडक्टर होने के साथ साथ कन्नड़ थिएटर में भी थोड़ा काम किया जिसे उन्हे एक्टिंग का काम समझ के साथ साथ पसंद भी आने लगा।

190 फिल्मों का हिस्सा रह चुके है थलाइवा!

एक अमीर स्टार होने के बावजूद भी रंजनिकांत अपने फैन्स के द्वारा बहुत माने जाते है और उसकी वजह यह है कि वे काफी सिंपल और अपने काम के प्रति निष्ठा रखते हैं । वे हमेशा अपने लोगो की मदद करने वाले व एक परोपकारी इंसान के रूप में जाने जाते हैं । वे कभी भी अपने लोगो को निराश नहीं होने देते व न ही उन्हें खाली हाथ छोड़ते हैं । रजनीकांत ने अपने करियर में करीब 190 मूवीज की है जो कि तमिल, कन्नड़ा , हिंदी , इंग्लिश , तेलुगु , मलयालम और बंगाली भाषा में थी ।

अवॉर्ड्स

उन्होंने बहुत से अवार्ड्स भी जीते हैं और उन्हें उनकी पिक्चरों के लिए बहुत बार बहुत से बड़े अवार्ड्स के लिए नॉमिनेट भी किया गया है ।उनके अवार्ड्स की लिस्ट में शामिल है बहुत से नेशनल अवार्ड्स , फिल्मफेयर , और रीजनल अवार्ड्स भी । उन्हें भारत सरकार के द्वारा सन् 2000 में पद्म भूषण अवार्ड से भी सम्मानित किया गया है ।वे भारत के पहले सुपरस्टार है जिनका नाम सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन यानी की cbse की पढ़ाई के एक क्यूरिकलम में शामिल किया गया था और उस चैप्टर का नाम रखा गया था ” From bus conductor to Superstar ” यानी की एक मामूली से बस से पूरे देश के सबसे बड़े सुपरस्टार बनने तक का सफर ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *