Breaking News
Home / Viral / लॉकडाउन में जिनके व्यापार डूबे उनके लिए निकली एक नई स्कीम!

लॉकडाउन में जिनके व्यापार डूबे उनके लिए निकली एक नई स्कीम!

लॉकडाउन में कितने लोगों के बिजनेस बंद हो गए और कितनों को करोड़ों का घाटा भी हुआ लॉक डाउन के चलते और पाक की बढ़ती महंगाई को देखते देखते लोगों का अब नौकरियों से विश्वास उठ गया है क्योंकि लॉकडाउन के चलते हुए काफी लोगों की नौकरियां भी छिन गई थी और उनके पास कमाने का कोई साधन नहीं रहा था इसी वजह से ज्यादा लोग अब अपना खुद का बिजनेस शुरू करना चाहते हैं। एक नई स्कीम निकली है जिसमें अब पैसे इन्वेस्ट करें तो फिर जाकर आप भी खूब अच्छी कमाई हो सकती है जानने के लिए आगे बढ़ते रहिए।

लॉकडाउन

लॉकडाउन के कारण हुआ बहुत नुकसान!

हाल ही में एक नई स्कीम आई है जिससे बहुत अच्छी कमाई हो सकती है यह 10 मिनट का एक अच्छा जरिया हो सकता है इस मैं आपको रात की ही तो सर पैसा लगाया होगा आइए आपको अच्छे से समझाते हैं दरअसल आंख की उल्टी भी बढ़ने लगी है जिसमें ज्यादा कुछ खर्चा नहीं होता आपके पास कम से कम 100 गज की जमीन और दो लाख तक की राशि होनी चाहिए जिस को नष्ट करने के बाद आप इस बिजनेस से लगता है इस बिजनेस में परेशानी भी नहीं होगी और आसान से पैसा डबल करने का जरिया भी हो गया।

लॉकडाउन

राख की ईट!

आप जानते ही होंगे कि जम्मू-कश्मीर हिमाचल और उत्तराखंड जैसे इलाकों में मिट्टी मिलना काफी मुश्किल हो जाता है जिसके कारण उधर कितने मकान भी पत्थरों के बनते हैं और मकान और बंदूक बनाने के लिए कम से कम एक तो चाहिए होती है इसीलिए अब राख किए थे बनने लगी है इसके कारण काफी लाभ भी हुआ है जैसे कि एक मिट्टी की ईट बनाने में 20 से 30% ज्यादा का खर्चा होता है और राखी ईट बनाने में इतना ज्यादा खर्चा भी नहीं होता साथ ही में उनकी मजबूती भी काफी अच्छी होती है राख की ईंट बनाने का व्यापार कुछ ज्यादा मुश्किल भी नहीं है और साथ में लाभदायक भी बहुत है। पंजाब हरियाणा जैसे इलाकों में आठ बनवाने का अलग से खर्चा भी लगता है इतना डबल खर्चा उठाने से ज्यादा फायदेमंद लोगों को और राख की एटी लगती है इसी कारण इनका व्यापार भी काफी ज्यादा बढ़ गया है आजकल काफी ज्यादा लोग यूनिट के पर इन्वेस्टमेंट भी कर रहे हैं इसके लिए और सब जानने के लिए आप दूसरे आर्टिकल्स भी पढ़ सकते हैं।

लॉकडाउन

आर्टिकल पढ़ने के लिए धन्यवाद और भी लेटेस्ट न्यूज़ के लिए देखे हमारी वेबसाइट संचार डेली

About komal

Leave a Reply

Your email address will not be published.