Breaking News
Home / Bollywood / क्या रवीना टंडन के करियर का दूसरा दमदार फेज, शिवगामी से क्यों हो रही है तुलना?

क्या रवीना टंडन के करियर का दूसरा दमदार फेज, शिवगामी से क्यों हो रही है तुलना?

रवीना टंडन भारतीय फिल्म अभिनेत्री, प्रोड्यूसर और माॅडल हैं। उन्होने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की 1991 में आयी “पत्थर के फूल” जैसी सुपरहिट फिल्मे से की थी। रवीना ने हिंदी फिल्मों के साथ साथ तमिल, तेलुगु और कन्नड़ फिल्मों में भी काम किया है। उन्होने अपने फिल्मी करियर में अक्षय कुमार, गोविंदा, अजय देवगन, सुनील शेट्टी जैसे बड़े कलाकारों के साथ फिल्मों में काम किया। अभिनय के साथ डांस के लिए मशहूर रवीना ने ‘मोहरा’, ‘खिलाडि़यों का खिलाड़ी’, ‘जिद्दी’, ‘लाडला’ जैसी सुपरहिट फिल्मों में काम किया। फिल्म ‘दमन’ के लिये रवीना को राष्ट्रीय पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

रवीना टंडन को लंबे वक्त बाद केजीएफ 2 के रूप में किसी फिल्म के लिए इतनी तारीफ़ मिल रही है।उनके किरदार को दमदार बताया जा रहा। यहां तक कि बाहुबली की शिवगामी से तुलना हो रही है।यश की केजीएफ़ 2 हिंदी में ब्लॉकबस्टर बनती दिख रही है. उत्तर से लेकर दक्षिण तक फिल्म के बारे में बातें हो रही हैं। केजीएफ 2 से जुड़े कई सोशल ट्रेंड्स में दिलचस्प चीजें दिखाई पड़ रही हैं। याद नहीं आता कि आख़िरी बार कब किसी फिल्म के लिए रवीना टंडन की इतनी वाहवाही हुई थी।केजीएफ 2 में रवीना का काम सराहा जा रहा है।और ऐसा भी नहीं है कि सराहना सिर्फ हिंदी पट्टी के दर्शक ही कर रहे हैं। तारीफ़ करने वाले प्रशंसकों में उत्तर से लेकर दक्षिण तक के दर्शक शामिल हैं। केजीएफ 2 में अभिनेत्री ने रमिका सेन नाम का किरदार निभाया है। असल में यह देश की बेहद ताकतवर प्रधानमंत्री का किरदार है।

रमिका सेन के रूप में रवीना के तेवर पसंद आ रहे लोगों को

बाहुबली में शिवगामी का किरदार रम्या कृष्णन ने निभाया था। शिवगामी महिष्मति की राजमाता थीं। उनका किरदार एक ताकतवर, मानवीय और ईमानदार राष्ट्रवादी महिला के रूप में दिखाया गया था।एक ऐसी महिला जो न्याय और अन्याय के प्रश्न पर अपने गर्भ से जन्मे बेटे के विरोध में खड़ी हो जाती है।केजीएफ 2 में भी प्रधानमंत्री के रूप में एक ताकतवर महिला राजनेता को दिखाया गया है।पुरुषों के प्रभुत्व वाली राजनीति में रमिका के रूप में अभिनेत्री ने ताकतवर प्रधानमंत्री के तेवर, आत्मविश्वास और शक्ति को जिया है। उनका अभिनय उनके चरित्र को गहराई देता है|

दूसरे दौर में धीरे-धीरे लेकिन मजबूती से बढ़ रही हैं रवीना

खासकर रवीना टंडन जैसी अभिनेत्रियों के लिए जिन्हें पहले दौर में अभिनय को दिखाने के बहुत ज्यादा मौके नहीं हासिल हुए, रमिका से सेन के रूप में उनका दर्शकों को प्रभावित करना दूसरे दौर की सफलता का संकेत भी है. अभिनेत्री अब ग्लैमरस भूमिकाओं की बजाय चरित्र भूमिकाओं में कोशिश कर रही हैं. हालांकि उन्हें फिल्मों में बहुत किरदार नहीं मिल रहे. सिलसिला भले कमजोर है पर वे छाप छोड़ने के लिए मेहनत और कोशिश करते दिख रही हैं. पिछले साल उनकी वेब सीरीज अरण्यक ने लोगों को प्रभावित किया था. नेटफ्लिक्स की क्राइम थ्रिलर सीरीज में उन्होंने पुलिस अफसर का किरदार निभाया था जिसकी जवान बेटी भी है. अब केजीएफ 2 की सफलता फिल्मों में उनके सिलसिले को बढ़ाने में मदद कर सकता है. मात्र, अरण्यक और केजीएफ 2 की सफलता सबूत है कि धीरे-धीरे ही सही रवीना के कदम दूसरे दौर में मजबूती से बढ़ रहे हैं.

About kavya Swaroop

Leave a Reply

Your email address will not be published.