Breaking News
Home / Bollywood / बंदरों ने बनाया इंसानों को करोड़पति

बंदरों ने बनाया इंसानों को करोड़पति

एक मुस्लिम औरत जिसको लव मैरिज करने के बाद समाज में काफी विरोध का सामना करना पडा।  उस महिला की अपनी कोई संतान भी नहीं हुई थी । इस निराशाभरे समय में महिला को एक ऐसा बंदर मिला जिसने उसकी किस्मत का ऐसा सितारा चमका दिया कि खुद भी करोड़ों की संपत्ति का मालिक बन गया और महिला को भी एक संतान मिल  ही गई।

क्या रिश्ता है बंदर और उस करोड़पति इंसान का ?

ये अनोखा और काफी ज्यादा अद्भुत मामला उत्तर प्रदेश के रायबरेली का है। जबकि , शहर के शक्ति नगर मोहल्ले की रहने वाली कवयित्री सबिस्ता और उनके पति एडवोकेट बृजेश श्रीवास्तव को शादी के कई साल बाद भी संतान की खुशी नहीं मिल सकी।

साल 2005 में एक मदारी एक बंदर को लेकर  कहीं जा रहा था। सबिस्ता ने मदारी से लेकर उसे खरीद लिया और उसका नाम  भी चुनमुन रख दिया। फिर वह अपने बेटे की तरह उस बंदर का  ख्याल रखने लगी।

सबिस्ता और बृजेश के सिर पर 13 लाख का कर्ज इखट्टा हो रखा था। चार महीने  के चुनमुन के घर में कदम पड़ते ही सबिस्ता की आर्थिक स्थिति सुधरने लगी। उनका सारा कर्ज कब खत्म हो गया , पता ही नहीं चला की कब उनका सारा कर्ज खतम उनके सिर पर से हट गया । सबिस्ता को कवि सम्मेलनों में बुलाया जाने लगा और उनकी किताबें भी बाजार में आने लगी । कवि सम्मेलनों के संचालन से अच्छी आय भी मिलने  लगी।

महज कुछ सालों में ही उनकी आर्थिक स्थिति में काफी ज्यादा सुधार होने लगा था । उन्होंने इसका पूरा श्रेय चुनमुन को  ही दे दिया था और उसके लिए अलग से एसी और हीटर वाले तीन कमरे भी  बनवा दिए थे । साथ ही चुनमुन के नाम ही मकान, गाड़ी, दो बीघे जमीन, एक प्लॉट, 20 लाख की बैंक में एफडी भी  करवाई थी।

कैसे बनाया बंदर ने इंसान को करोड़पति ?

फिर दंपती ने तय किया कि उनका कोई बच्चा नहीं है, ऐसे में उनका सब कुछ चुनमुन ही होगा और वह उसे अपने बेटे की तरह पालेंगे । इतना ही नहीं बल्कि दंपत्ति ने साल 2010 में शहर के पास ही छजलापुर निवासी अशोक यादव की बंदरिया बिट्टी यादव से उसका विवाह भी करा दिया था । फिर चुनमुन के नाम से ट्रस्ट बनाकर वह पशुसेवा  भी करने लगी थी ।

About niyati

Leave a Reply

Your email address will not be published.