Home / Bollywood / इस मशहूर अभिनेत्री को 53 साल की उम्र में मिला प्यार, लेकिन नहीं हुई शादी, मौत भी ऐसी आयी कि….

इस मशहूर अभिनेत्री को 53 साल की उम्र में मिला प्यार, लेकिन नहीं हुई शादी, मौत भी ऐसी आयी कि….

आज हम आपको एक ऐसी मशहूर अभिनेत्री के बारे में बताने जा रहे हैं, जिन्हें 53 साल कि उम्र में प्यार तो मिला और सगाई भी हो गयी, लेकिन किस्मत के हाथों किसका बस चलता है, सगाई होने के बावजूद भी यह अभिनेत्री अकेली ही रहे गयीं| आखिर कौन है यह अभिनेत्री, क्यों रहे गयी ये अकेली, क्या क्या हुआ इनकी ज़िन्दगी के जैसे कई सवालों के जवाब हमने इस पोस्ट के द्वारा आपको बताये हैं|

सगाई होने के बाद भी नहीं मिल पाया इस अभिनेत्री को अपना प्यार, रहे गयी अविवाहित ही

दोस्तों, हम किसी और कि नहीं बल्कि गुज़रे ज़माने कि मशहूर अभिनेत्री नंदा कि बात कर रहे हैं| इनका पूरा नाम नंदा कर्नाटकी है, और आज 08 जनवरी को इनका जन्मदिन है| नंदा ने अपने ज़माने में कई फिल्मों में काम किया, और अधिकांश समय इन्हे हर मूवी में बतौर हीरो कि बहन ही देखा गया है| नंदा के पिता मास्टर दामोदर विनायक कर्नाटकी भी अपने ज़माने के एक मशहूर अभिनेता थे|

कम उम्र में ही पिता का साया उठ जाने के बाद, घर कि सारी ज़िम्मेदारियाँ नंदा के कन्धों पर आ गयी, ऐसे में उन्हें अपने बारे में सोचने का मौका ही नहीं मिला| नंदा आज़ाद हिन्द फ़ौज का हिस्सा बनना चाहती थीं लेकिन किस्मत ने उन्हें एक अभिनेत्री बना दिया, और उन्होंने बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट ही फिल्मों में काम करना शुरू कर दिया था| वे डायरेक्टर मनमोहन देसाई से बेइंतेहां महोब्बत करती थीं, लेकिन अपने शर्मीले स्वभाव कि वजह से कभी अपने प्यार का इज़हार नहीं कर पायी| और डायरेक्टर मनमोहन देसाई कि शादी कहीं और हो गयी|

हालातों के आगे हुई मजबूर, सगाई होने के बाद भी नहीं कर पायी शादी, और रहना पड़ा सारी उम्र अकेले

डायरेक्टर मनमोहन देसाई कि पत्नी कि मौत के बाद उन्होंने जब नंदा से अपने प्यार का इज़हार किया, तो नंदा ने हाँ कर दी| दोनों ने सगाई भी कर ली, इस वक़्त नंदा 52 वर्ष की थीं| लेकिन किस्मत को कुछ और ही मंज़ूर था, सगाई के 2 साल बाद डायरेक्टर की एक दुर्घटना में मृत्यु हो गयी, और नंदा फिर अकेली हो गयीं|

हालाँकि उनके भाइयों ने उनका ख्याल रखा, जिस वजह से उन्हें कभी कोई परेशानी नहीं हुई| नंदा अपने लिए खुद ही सब करती थीं| 25 मार्च 2014 की सुबह जब नंदा किचन में गयीं तो वह उन्हें दिल का दौरा पड़ गया| उस वक़्त नंदा घर में अकेली थीं, तो उन्हें कोई अस्पताल नहीं ले जा सका, और उनकी मृत्यु हो गयी|

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *