Breaking News
Home / Bollywood / सड़क पर सोकर एक ट्रांसजेंडर ,बेघर लड़का बना पायलट

सड़क पर सोकर एक ट्रांसजेंडर ,बेघर लड़का बना पायलट

दुनिया में मां को भगवान का रूप माना जात आ रहा है ।एक मां ही तो है जिसे अपने बच्चे की सबसे ज्यादा परवाह होती है, लेकिन तब क्या हो जब यही मां अपने बच्चे को खुद घर से बाहर निकाल देती है।  सुनने में थोड़ा अजीब लग रहा होगा शायद ।लेकिन, यह कोई कहानी नहीं बल्कि एक सच्ची घटना है। दरअसल, एक मां ने अपने बच्चे को किन्नर होने की वजह से घर से बाहर निकाल दिया था । आज उस बच्चे ने कुछ ऐसा कर दिया दिखाया है, जिससे किन्नर समाज ही नहीं बल्कि पूरे देश को उस पर बहुत ज्यादा  गर्व  महसूस होता है।

कौन है  देश का पहला ट्रांसजेंडर पायलट?

जिस बच्चे को घर से निकाला गया  था उसका नाम एडम हैरी है।एडम हैरी देश का पहला ट्रांसजेंडर पायलट बना था जब हैरी के माता-पिता को पता चला कि उनका बच्चा ट्रांसजेंडर है तो उन्होंने उसे घर से निकाल दिया था । जब हैरी को घर से निकाल दिया गया था तब हैरी  पास पैसे भी नहीं थे।ऐसे में हैरी को  फुटपाथ पर ही सोना पड़ता था। जिंदगी में इतना संघर्ष होने के बावजूद उसने हार नहीं मानी और जीवन में आगे बढ़ने के लिए खूब जी तोड़ मेहनत की ,अपनी पूरी जान लगा दी ,अपना खून पसीना एक कर दिया दिन रात मेहनत करके सिर्फ और सिर्फ आगे बढ़ने के लिए।

कैसे किया पायलट बनने का सपना साकार ?

जबकि  हैरी बचपन से ही एक पायलट बनना चाहता था। हैरी ने  अपने इस सपने को पूरा करने के लिए प्राइवेट पायलट लाइसेंस का एग्जाम दिया, जिसके बाद साल 2017 में जोहानसबर्ग में उसे इसका लाइसेंस भी मिल गया था हैरी ने यहां तक का समय पूरा करने के लिए एक छोटी सी जूस की दुकान लगाई थी और उसमें खूब दिल से काम किया । इसके बाद उसने अपनी पढ़ाई के लिए सोशल जस्टिस विभाग से मदद भी  मांगी थी ।

इसके बाद हैरी को एशियन अकैडमी ज्वाइन करने की सलाह दी गई थी ।इस दौरान केरल सरकार ने उसकी मदद भी की थी । केरल सरकार ने उसे मदद के रूप में राज्य समाजिक न्याय डिपार्टमेंट की ओर से 22.34 लाख रुपए की स्कॉलरशिप दिलवाई, जिसके बाद उसके पायलट बनने के सपने को पंख मिल गए थे और वह कमर्शियल पायलट बनने में कामयाब रहा ।

About niyati

Leave a Reply

Your email address will not be published.